Bewafa Shayari


जिस कदर तुमने भुला रखा है कभी सोचना,

हम सब छोड़कर निकले थे एक तेरी मोहब्बत के लिये