Bewafa Shayari

November 18, 2018


ज़िंदगी से बस यही एक गिला है,

ख़ुशी के बाद न जाने क्यों गम मिला है,
हमने तो की थी वफ़ा उनसे जी भर के..
पर नहीं जानते थे कि वफ़ा के बदले बेवफाई ही सिला है।

You Might Also Like

0 Comments