Dard Shayari


किया है बर्दाश्त तेरा हर दर्द इसी आस के साथ,

कि खुदा नूर भी बरसाता है आज़माइशों के बाद।