Dard Shayari

November 18, 2018


तुझसे पहले भी कई जख्म थे सीने में मगर,

अब के वह दर्द है दिल में कि रगें टूटती हैं। 

You Might Also Like

0 Comments