Dosti Shayari


याद ऐसा करो की कोई हद न हो,

भरोसा इतना करना की शक न हो और
इंतेज़ार इतना करो की कोई वक़्त न हो,
दोस्ती ऐसी करो की कभी नफरत न हो!