गुलज़ार शायरी

gulzar poetry

जिंदगी जीना है तो तकलीफ उठानी पड़ेगी ही,

वरना मरने के बाद जलने का एहसास तक नहीं होता!

gulzar poetry

नजरों का खेल ही तो था सरकार……

तुम चुरा ना सकी और हम हटा नही सके !!

gulzar poetry

तुझको पाने की ख्वाहिश दिल मे लेकर घूम रहे है,

बस अपनी हकीकत से यूँ ही रोज मुह मोड रहे है!

gulzar poetry

तुम बस चलते जाओ..

या तो मंजिल मिल जाएगी या मुसाफिर बन जाओगे!

gulzar poetry

इम्तिहान में आए मुश्किल सवाल सा हू मैं

हर किसी ने मुझे छोड़ा है बिना समझे ही!

gulzar poetry

मोहब्बत को बुरा क्यू कहु जब किस्मत ही मेरी खराब है,

वो जा रहे हैं तो जाने दो, मेरे पास मेरी शराब है!