लव शायरी इमेज

Love Shayari Image

बहुत हुए इम्तेहां अब तो फैसला सुना दे

मुझे कुर्बतें बख़्श दे या ख़ामियाँ गिना दे

Love Shayari Image

हे आज़ादी, शब्दों से कैसे तेरा गुणगान करूँ ?

बड़ी कठिन मंजिल तेरी थी

कैसे मैं बयान करूँ ?

Love Shayari Image

ना राख उड़ती है ….. ना धुआँ उठता है….

कुछ रिश्ते यूँ चुपचाप जला करते है..।।

Love Shayari Image

कहीं कहीं मेरे लहजे में बोलता है तू
कहीं कहीं मेरे लहजे में सख्त उदासी है

Love Shayari Image

सुनो….तुम जान हो मेरे
मुझे बेजान मत करना

Love Shayari Image

तुम प्यार की बातें …..न किया करो हमसे…
मासूम हैं हम…..बातो से बहक जाते हैं…..