-->

Best 150+ Gulzar Quotes - Gulzar Shayari - गुलज़ार कोट्स-शायरी

Hello Friends: आज Gulzar Special में पढ़ेंगे गुलज़ार साहब द्वारा लिखे गए "Gulzar Quotes",  Gulzar Quotes On Life, "Gulzar Shayari",  को Gulzar Shayari Image के साथ. 

Best 150+ Gulzar Quotes - Gulzar Shayari - गुलज़ार कोट्स-शायरी



आज की पोस्ट हैं भारतीय सिनेमा जगत के मशहूर गीतकार, विश्व प्रसिद्ध शायर, पटकथा लेखक, फ़िल्म निर्देशक तथा नाटक-कार गुलज़ार जी पर आधारित हैं. गुलज़ार जी को आज के समय में कौन नहीं जानता। 

  परिचय:-  
गुलज़ार साहब का जन्म पाकिस्तान के दीना गाँव में 18  अगस्त 1936 में हुआ. अपने पिता की वह दूसरी संतान थे. माँ का उनके बचपन में ही देहांत  हो गया था और साथ उन्हें  अपने पिता का भी प्यार नहीं मिला। गुलजार साहब  नौ भाई-बहन में वो चौथे नंबर पर थे. 

भारत के बटवारे के समय इनका परिवार पकिस्तान के दीना गाँव को छोड़ कर अमृतसर (पंजाब, भारत) आकर बस गए. गुलज़ार साहब ने अपने जीवन बहुत संघर्ष किया, शुरू में जब वो  मुंबई आये तो उन्होंने वर्ली के एक गेरेज में वे बतौर मेकेनिक काम किया। 

और साथ ही कविता लिखने के शौक़ के कारण अपने खाली समय में कविताये लिखते। धीरे-धीरे फ़िल्म इंडस्ट्री में उनकी पकड़ बनने लगी। हुए साथ ही बॉलीवुड सिनेमा से जुड़ गए। 1963 आयी फिल्म बन्दिनी से ही फ़िल्मी जगत की दुनिया में प्रवेश किया जिसके निर्देशक, निर्माता बिमल राय थे और इसी फिल्म के साथ उन्होंने अपने गाने लिखने की शुरुआत की....  Wikipedia

गुलज़ार जी भाषा उर्दू तथा पंजाबी हैं परन्तु उन्होंने  ब्रज भाषा, खङी बोली, मारवाड़ी और हरियाणवी में भी अपनी रचनाये लिखी जो आज भी काफी प्रचलित हैं. 

वर्ष 2009 में डैनी बॉयल द्वारा निर्देशित फिल्म स्लम्डाग मिलियनेयर में उनके द्वारा लिखे गीत "जय हो" के लिये उन्हे सर्वश्रेष्ठ गीत का ऑस्कर पुरस्कार मिल चुका है।  2002 में सहित्य अकादमी पुरस्कार और वर्ष 2004 में भारत सरकार द्वारा दिया जाने वाला तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से भी सम्मानित किया जा चुका है। इसी गीत के लिये उन्हे ग्रैमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया जा चुका है।


gulzar motivational quotes in hindi

उसे हम छोड़ दें लेकिन एक छोटी सी उलझन है
सुना है दिल से धड़कन की जुदाई मौत होती है

 

ताउम्र जलते रहे है धीमी आंच पर,
तभी ये इश्क़ और चाय मशहूर हुए है!

 
अज़ीज़ इतना ही रक्खो कि जी सँभल जाए
अब इस क़दर भी न चाहो कि दम निकल जाए

 

क्या हसीन वो पल होंगे जब निक़ाह-नामे अदल बदल होंगे
इधर हम "कुबूल है" कहेंगे, उधर वो "कुबूल है" कहेंगे❤️



कुछ लम्हे सजाकर रखे हैं मैंने तुम्हारे लिए....
इंतज़ार सिर्फ तुम्हारे मिलने का है....😊

 
तेरी यादों की भूल भुलैया में ग़ुम होकर,
मुझे अक्सर चाय ठंडी पीनी पड़ती है..



मैं लब हूँ, मेरी बात हो तुम....
मैं तब हूँ, जब मेरे साथ हो तुम....




वो लफ्ज़ बने ही नहीं,
जिससे मैं कह  सकूँ,
कि मूझे आपसे कितनी मुहब्बत हैं ...


मुझको पसन्द है अक्सर खुद को ही पढ़ना..
एक किताब है जो मुझमें ही कहीं सफ़र करती है...
💗💗

 
मैं नहीं कहता तुम मेरी पहली मोहब्बत हो,
पर यक़ीन करो जाना तुम मेरी आखरी मोहब्बत हो।।

 

ये दिल ही है जिसे हारने की आदत हो गई
वरना जहाँ भी दिमाग़ लगाया फतह हो गई

 
कुछ लोग बहुत अदब से मिलते हैं, 
लेकिन दो दिन बाद ही वे
अपना इश्क हथेली पर रखकर 
पेश कर देते हैं, 
जैसे कोई इलायची पेश करे।
मुझे उस इश्क से नफ़रत है, 
जो इलायची की तरह पेश किया जाये।

 
तुम हैरान कर दो, हाल पूछकर मेरा,,
बताकर सब ख़ैरियत मैं भी कमाल कर दूँ ।


तेरी मोहब्बत भी किराये के घर की तरह थी,
कितना भी सजाया पर मेरी नहीं हुई.
 

अब तो रिहा कर दो अपने ख़यालों से मुझको,
लोग कहने लगें है कि रहते कहां हो आजकल..
 
हो अगर नियत में पर्दा,
तो आँखों से खूबसूरत कोई लिबास नही।

मोहब्बत सब्र के अलावा कुछ नहीं,
मैंने हर इश्क़ को इंतज़ार करते देखा है.



बेटी ने खत लिखा है , मगर क्या पता लिखे ?
बाबा ने शादी की है मकान अपना बेचकर ....


इक बूंद इश्क़ तेरा,
सैलाब लाता है मुझमें।

 
तुम मेरे हो ऐसी हम जिद नहीं करेंगे .. .,
मगर हम तुम्हारे ही रहेंगे ये तो हम हक से कहेंगे .. !

 
याद महबूब की , और शिद्दत सर्दी की😍
देखते हैं पहले कौन बिमार करता है हमे😊



तेरे साथ के आगे जन्नत कुछ भी नहीं,
और तेरे साथ के
सिवा मेरी💗 कोई मन्नत भी नहीं !!

 

पास आओ मैं तुम्हें देख लूँ करीब से..
आँखों को ये राहतें मिलती हैं नसीब से...

 
सच्ची, झूठी, कम, ज़्यादा,अच्छी, बुरी नहीं होती,
मोहब्बत होती है बस या तो या फिर नहीं  होती..!!



सूरतें बुजुर्गों की रहमत हैं अल्लाह की
इन सफेद बालों से सारा घर चमकता है!!!


मेरे ज़ख्मों के ज़ख्म भी रिसने लगे ।
यूँ ही किसी की आँखों से बरसता नही पानी ।।


आप और आपकी हर बातें मेरे लिए खास है
यहीं शायद प्यार का पहला ऐहसास हैं ।



मन्नत के धागों में बंधा है जो,
वो इश्क़ किसी जन्नत से कम नही..!! ❤️


तुम्हारी मोहब्बत के ,
रंग औढकर ही मैं खुशनुमा हूं 
तू हीं तो है मुझमे मैं कहाँ हूँ....!!!

 
नजर_नजर से 
हाल_ए_दिल_का पता चलता हैं,
आप हम_पे_हैं_फिदा 
साफ_पता_चलता_हैं...!!!

 
चेहरे देख कर दिल ️लगाया ही नही कभी...
हां मुस्कुरहटो पर तेरी कई बार जान लुटाई है हमने...



ना दवाओं से आाराम मिले, ना दुआओंसे करार आए. 
शहर के हर मशहूर वैध को मर्ज अपना हम दिखा आए. 
अब तू जो देख ले एक दफा नजर भर के तो तबियत में कुछ सुधार आए. 
ना दवाओं से आराम मिले ना दुआओं से करार  आए!!
                                         

 
बो जान बूझ कर मेरे बाल बिगाड़ देती थी,
पूरी कोशिश रहती थी, मै किसी को अच्छा न लगूँ

 
तेरा मन और मेरा मन, जिस दिन सांझा हो जाएगा
तेरी धड़कन हीर हो जायेगी, मेरा दिल रांझा हो जाएगा।

 
मेरी आँखों मे पढ़ लेते हैं लोग ,
तेरे इश्क़ की आयतें....
किसी में इतना बस जाना भी ,
अच्छा नहीं होता....!!!!

 
दूर तक रेत के साहिल पर हैं कदमों के निशां
ऐसा लगता है अब नहीं लौटेगा जाने वाला




 
कश्ती भी नहीं बदली दरिया भी नहीं बदला
हम डूबते गये पर जज़्बा भी नहीं बदला ♥️

 
किसी ने आना भी चाहा तो भगा दिया हमने
बसाकर दिल में तुम्हे कर्फ्यू लगा दिया हमने

चूड़ी पायल बिंदिया काजल गजरा सब पड़े रहने दो,                        
खींच के बाँधों जुल्फ़ों को एक लट गाल पे रहने दो।

 

ना उड़ाओ परिंदों को, मुंडेर से अपनी ,
 ना जाने कौन आया हो, बिछड़ के अपनों से !

 

यूँ तो खाली खाली सा रहता है ज़हन मेरा....
सोचूँ तुझे तो बाढ़ सी आती है ख्यालों की....

 

ज़िन्दग़ी कई हिस्सों में टूटा आइना ही सही, 
चलो हर हिस्से में एक मुक़म्मल तस्वीर तो है..

 
उसका पलट कर देखना कोई इश्क़ नही था
वो तो ये देख रही थी कि मैं संभला कि नहीं ...

 

इश्क़ में उजड़ा तो ऐसे जीने लगा,
चाय का शौकीन शराब पीने लगा !!

 
ख़्वाबों के खुशनुमा शहर में मिलने आना तुम कभी...
हमने खुद को तेरे इश्क मैं कुछ यू सूलाया हैं😘



अपने मिलने का मुझे कोई तरीका दे दो
ज़िंदा हूँ,  ज़िन्दगी जीने का सलीका दे दो

 
न मीरा की पीर हूँ, न अदभुत कबीर हूँ,
शब्दों से इश्क़ है,अश्कों से अमीर हूँ...❣️

 
ऐसे माहौल में दवा क्या है दुआ क्या है,
जहां कातिल ही खुद पूछे कि हुआ क्या है

 
धड़कनों को भी रास्ता दे दीजिये हुजूर .!
आप तो पूरे दिल पर कब्जा किये बैठे है.!!

 
तेरा अहसास मुझको रात भर सोने नहीं देता
ये कैसी बे-क़रारी सी मेरी आंखों में छाई है



मुझे फ़क़त झुमकों से इश्क़ है मोहतरमा
मैं आपके साथ कभी बरेली होकर नहीं जाऊंगा


"तुम एक बार बाहर जाकर बारिश देखो तो सही"
"तुम्हारे आने की ख़ुशी में कहीं हर बूंद आईना न बन गई हो"

 
तुम तो सिर्फ पहलू में भर कर लाये थे ग़म अपने, 
यहाँ तो समन्दर लिए बैठें हैं लोग और उफ़्फ़ तक नहीं करते...!!!


काफी कुछ सीखा है मैंने तुमसे 
दिल देकर भी वक़्त ना देना एक हुनर है

 
बहलाने से न जी बहला लाख कोशिश की मैंने,
न जाने क्यू आज रह रहकर कोई याद आ रहा मुझे !

 
रिश्ता बहाल काश फिर उसकी गली से हो,
जी चाहता है कि इश्क़ फिर उसी से हो !💕
ख़्वाहिश है पहुँचूँ इश्क़ के मैं उस मक़ाम पर,
जब सामना उसका मेरी दीवानगी से हो !💕

 
प्यार जो तुम बेहिसाब कर रही हो,
खामखाँ हमे ख़राब कर रही हो।।

 

देखना उस हसीन मौके पर, देके अश्को को मात निकलेगे,
तुझको छुने की चाह मे जाना, मेरी आँखों से हाथ निकलेगे...

 

हक़ीक़त मे . हक़ीक़त की . हक़ीक़त को अगर देखो
हक़ीक़त मे . हक़ीक़त की . हक़ीक़त और ही कुछ है

 

कितनी पाक हुआ करती थी पहले मुहब्बत भी,
नज़र से नज़र मिलते ही दुपट्टे का ख्याल होता था!

 

कभी यादें...
कभी बातें...
कभी गुजरी मुलाकातें..
सब याद आता है एक तेरे याद आने से..✍️



इस बेचैन सी ज़िन्दगी में कुछ पल जन्नत के जियोगे क्या??
चाय बना रहा हूँ इलाइची-अदरक वाली पियोगे क्या..??


मेरे दिल तक पहुंचने की चाह है तुम्हे,
मेरे दिल से लौटने की राह मुश्किल है।।


तुम्हारी क़ैद से अगर आज़ाद हुआ भी तो,
वापस लौटकर तुम्हारे ही पास आऊंगा।।



चुन दिया हमने दीवार में अपने दिल को
ठोकरों से बचाने का यही एक रास्ता है

 
मैं सादे कपड़े में ताबीज़ वाला लड़का हूँ
तुम फैन्सी ब्रेस्लेट पहनने वाली लड़की हो

मैं पढ़ाई से पीछा छुड़ाने वाला लड़का हूँ
तुम पढ़ाई के पीछे भागने वाली लड़की हो

मैं अँधेरे में शायरी लिखने वाला लड़का हूँ
तुम मंचों को रौशन करने वाली लड़की हो

मैं डस्टबिन जैसे दिखने वाला लड़का हूँ
तुम जरुरी जरुरत पड़ने वाली लड़की हो

मैं खुदा का जोगन बनने वाला लड़का हूँ
तुम हरेक के खुदा बनने वाली लड़की हो


इश्क़ का ख्याल और ख़याल में है इश्क़,
मत पूछ यार किस हाल में है इश्क़..

 
एक दफ़ा फिर तुम भरो मुझे अपनी बाहों मे,
एक दफ़ा फिर मुझे दुनिया से बेखबर होना है।


लोग कहते है मोहब्बत में असर होता है
कौन से शहर में होता है किधर होता है

-💕-:यह भी पढ़ें :--💕

Post a Comment