-->

72+ Desh Bhakti Shayari → 2020 ← Indian Army Shayari / देश भक्ति शायरी

Desh Bhakti Shayari 2020 Indian Army Shayari / देश भक्ति शायरी में पढ़ेंगे देश भक्ति की बेहतरीन शायरी क्लेक्शन Desh Bhakti Poem in Hindi, Indian Army Shayari, share on fb and whatsapp esaly


Desh Bhakti Shayari


Desh Bhakti Shayari → 2020 ←

1.🇮🇳


शम्मा-ए-वतन की लौ पर जब कुर्बान पतंगा हो,

होठों पर गंगा हो और हाथों में तिरंगा हो.


2.🇮🇳


मेरे मुल्क की हिफाज़त ही मेरा फ़र्ज है

और मेरा मुल्क ही मेरी जान है,

इस पर कुर्बान है मेरा सब कुछ,

नही इससे बढ़कर मुझको अपनी जान है।


3.🇮🇳


अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नही !

सर कटा सकते हैं लेकिन सर झुका सकते नही!!


4.🇮🇳


देश की हिफाजत मरते दम तक करेंगे

दुश्मन की हर गोली का हम सामना करेंगे

आजाद हैं और आजाद ही रहेंगें

जय हिन्द !!


5.🇮🇳


बस ये बात हवाओं को बताये रखना,

रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,

लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने,

उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।


6.🇮🇳


ख़ूँ शहीदान-ए-वतन का रंग ला कर ही रहा 

आज ये जन्नत-निशाँ हिन्दोस्ताँ आज़ाद है


7.🇮🇳


तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान हैं,

हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान हैं,

यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान हैं,

और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं

जय हिन्द

desh bhakti shayari in hindi

8.🇮🇳


किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,

मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,

मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,

मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

जय हिन्द...


9.🇮🇳


लिख रहा हूँ मैं अंजाम, जिसका कल आगाज आएगा,

मेरे लहू का हर एक कतरा इंकलाब लाएगा.


10.🇮🇳


तीन रंग का नही वस्त्र, ये ध्वज देश की शान है,

हर भारतीय के दिलो का स्वाभिमान है,

यही है गंगा, यही हैं हिमालय, यही हिन्द की जान है

और तीन रंगों में रंगा हुआ ये अपना हिन्दुस्तान हैं।


11.🇮🇳


चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो!

लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो


12.🇮🇳


लड़े जंग वीरों की तरह,

जब खून खौल फौलाद हुआ |

मरते दम तक डटे रहे वो,

तब ही तो देश आजाद हुआ ||


13.🇮🇳


दे सलामी इस तिरंगे को,

जिस से तेरी शान है,

सर हमेशा ऊँचा रखना इसका,

जब तक तुझ में जान है.

desh bhakti shayari hindi

14.🇮🇳


चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा

यूँ ही नहीं मिली थी, आजादी खैरात में


15.🇮🇳


जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:

जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:

हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,

मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।


16.🇮🇳


दिल से मर कर भी ना निकलेगी वतन की उल्फ़त,

मेरे मिट्टी से भी खुशबू-ए-वतन आएगी.


17.🇮🇳


लहू वतन के शहीदों का रंग लाया है,

उछ्ल रहा है ज़माने में नाम-ए-आज़ादी।


18.🇮🇳


जब आँख खुले तो धरती हिन्दुस्तान की हो:

जब आँख बंद हो तो यादेँ हिन्दुस्तान की हो:

हम मर भी जाए तो कोई गम नही लेकिन,

मरते वक्त मिट्टी हिन्दुस्तान की हो।


19.🇮🇳


चूमा था वीरों ने फांसी का फंदा

यूँ ही नहीं मिली थी आजादी खैरात में


20.🇮🇳


छोड़ो कल की बातें,

कल की बात पुरानी,

नए दौर में लिखेंगे,

मिल कर नयी कहानी,

हम हिंदुस्तानी.


21.🇮🇳


मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा

ये मुल्क मेरी जान है

इसकी रक्षा के लिए

मेरा दिल और जान कुर्बान है

जय हिन्द


22.🇮🇳


खुशनसीव हैं वो जो

वतन पे मिट जाते हैं,

मर कर भी वो लोग

अमर हो जाते हैं,

करता हूँ तुम्हे सलाम

ऐ वतन पर मिटने वालो,

तुम्हारी हर सांस में बसना

तिरंगे का नसीव है।

जय हिन्द...!


23.🇮🇳


जो अब तक ना खौला वो खून नही पानी हैं,

जो देश के काम ना आये वो बेकार जवानी हैं.

desh bhakti shayari bhagat singh

24.🇮🇳


वतन की ख़ाक ज़रा एड़ियां रगड़ने दे,

मुझे यक़ीन है पानी यहीं से निकलेगा।


25.🇮🇳


दिलों की नफरत को निकालो,

वतन के इन दुश्मनों को मारो,

ये देश है खतरे में ए -मेरे -हमवतन,

भारत माँ के सम्मान को बचा लो!!


26.🇮🇳


चैन ओ अमन का देश है मेरा, इस देश में दंगा रहने दो

लाल हरे में मत बांटो, इसे शान ए तिरंगा रहने दो


27.🇮🇳


मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, हैं दोनों इंसान,

ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ ले कुरान,

अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान,

एक थाली में खाना खाये सारा हिन्दुस्तान।


28.🇮🇳


अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,

इसीलिए मेरा भारत महान है


29.🇮🇳


मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,

कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,

मैं अमन पसंद हूँ,

मेरे शहर में दंगा रहने दो,

लाल और हरे में मत बांटो,

मेरी छत पर तिरंगा रने दो।


30.🇮🇳


सरफरोशी की तमन्ना अब हमारे दिल में हैं,

देखना हैं जोर कितन बाजू-ए-कातिल में हैं,

वक्त आने दे बता देंगे तुझे ए आसमां,

हम अभी से क्या बताएं क्या हमारे दिल में हैं.

desh bhakti shayari photo

31.🇮🇳


दिल से निकलेगी न मर कर भी वतन की नफरत,

मेरी मिटटी से भी खुशबू-ए-वफ़ा आयेगी।


32.🇮🇳


मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा

ये मुल्क मेरी जान है

इसकी रक्षा के लिए

मेरा दिल और जां कुर्बान है


33.🇮🇳


 दिलों की नफरत को निकालो

वतन के इन दुश्मनों को मारो

ये देश है खतरे में ए -मेरे -हमवतन

भारत माँ के सम्मान को बचा लो


34.🇮🇳


एक सैनिक ने क्या खूब कहा है...

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ आया हूँ,

मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ आया हूँ,

मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत माँ,

मैं अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ आया हूँ।

जय हिन्द.


35.🇮🇳


मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ

यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,

मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,

तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।

जय हिन्द


36.🇮🇳


कुछ हाथ से मेरे निकल गया,

वो पलक झपक के छिप गया,

फिर लाश बिछ गयी लाखों की,

सब पलक झपक के बदल गया।

जब रिश्ते राख में बदल गए,

इंसानियत का दिल दहल गया,

मैं पूछ पूछ के हार गया,

क्यूँ मेरा भारत बदल गया?


37.🇮🇳


लड़ें वो बीर जवानों की तरह,

ठंडा खून फ़ौलाद हुआ,

मरते-मरते भी कईं मार गिराए,

तभी तो देश आज़ाद हुआ.


38.🇮🇳


भारतमाता तुम्हें पुकारे आना ही होगा,

कर्ज अपने देश का चुकाना ही होगा,

दे करके कुर्बानी अपनी जान की,

तुम्हे मरना भी होगा मारना भी होगा।


39.🇮🇳


वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है,

मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं!


40.🇮🇳


मैं मुल्क की हिफाजत करूँगा

ये मुल्क मेरी जान है

इसकी रक्षा के लिए

मेरा दिल और जां कुर्बान है


41.🇮🇳


मेरा यही अंदाज ज़माने को खलता है,

कि चिराग हवा के खिलाफ क्यों जलता है,

मैं अमन पसंद हूँ,

मेरे शहर में दंगा रहने दो,

लाल और हरे में मत बांटो,

मेरी छत पर तिरंगा रहने दो।


42.🇮🇳


जो देश के लिए शहीद हुए

उनको मेरा सलाम है

अपने खून से जिस जमीं को सींचा

उन बहादुरों को सलाम है

जय हिन्द


43.🇮🇳


बड़े अनमोल हे ये खून के रिश्ते

इनको तू बेकार न कर,

मेरा हिस्सा भी तू ले ले मेरे भाई

घर के आँगन में दीवार ना कर।


44.🇮🇳


किसी को लगता हैं हिन्दू ख़तरे में हैं,

किसी को लगता मुसलमान ख़तरे में हैं,

धर्म का चश्मा उतार कर देखो यारों,

पता चलेगा हमारा हिंदुस्तान ख़तरे में हैं.


45.🇮🇳


मैं अपने देश का हरदम सम्मान करता हूँ,

यहाँ की मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,

मुझे डर नहीं है अपनी मौत से,

तिरंगा बने कफ़न मेरा, यही अरमान रखता हूँ।


46.🇮🇳


लुटेरा है अगर आजाद तो अपमान सबका है,

लुटी है एक बेटी तो लुटा सम्मान सबका है,

बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की,

लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है। 


47.🇮🇳


शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले,

वतन पे मर मिटनेवालों का बाकी यही निशां होगा


48.🇮🇳


ये नफरत बुरी है न पालो इसे,

दिलो में खलिश है निकालो इसे,

न तेरा, न मेरा, न इसका, न उसका,

यह सब का वतन है, बचा लो इसे.


49.🇮🇳


खून से खेलेंगे होली,

अगर वतन मुश्किल में है

सरफ़रोशी की तमन्ना

अब हमारे दिल में है

जय हिन्द


50.🇮🇳


दोस्ताना इतना बरकरार रखो कि,

मजहब बीच में न आये कभी,

तुम उसे मंदिर तक छोड़ दो ,

वो तुम्हें मस्जिद छोड़ आये कभी।


51.🇮🇳


है नमन उनको कि जो यशकाय को अमरत्व देकर,

इस जगत में शौर्य की जीवित कहानी हो गये हैं,

है नमन उनको जिनके सामने बौना हिमालय,

जो धरा पर गिर पड़े पर आसमानी हो गये हैं.


52.🇮🇳


यहीं रहूँगा कहीं उम्र भर न जाउँगा,

ज़मीन माँ है इसे छोड़ कर न जाऊँगा।


53.🇮🇳


कुछ नशा तिरंगे की आन का है,

कुछ नशा मातृभूमि की शान का है,

हम लहराएंगे हर जगह..

ये तिरंगा नशा ये हिंदुस्तान की शान का है।

Happy Independence Day 🇮🇳


54.🇮🇳


अनेकता में एकता ही इस देश की शान है,

इसीलिए मेरा भारत महान है


55.🇮🇳


खुशनसीब हैं वो जो वतन पर मिट जाते हैं,

मरकर भी वो लोग अमर हो जाते हैं,

करता हूँ उन्हें सलाम ए वतन पे मिटने वालों,

तुम्हारी हर साँस में तिरंगे का नसीब बसता है…

जय हिन्द


56.🇮🇳


आज मुझे फिर इस बात का गुमान हो,

मस्जिद में भजन मंदिरों में अज़ान हो,

खून का रंग फिर एक जैसा हो,

तुम मनाओ दिवाली मेरे घर रमजान हो।


57.🇮🇳


उन आँखों की दो बूंदों से सातों सागर हारे हैं,

जब मेहँदी वाले हाथों ने मंगल-सूत्र उतारे हैं.


58.🇮🇳


भारतमाता के लिए मर मिटना कबूल है मुझे,

अखंड भारत बनाने का... जूनून है मुझे।


59.🇮🇳


ना सरकार मेरी है ना रौब मेरा है,

ना बड़ा सा नाम मेरा है,

मुझे तो एक छोटी सी बात का गौरव है,

मै हिन्दुस्तान का हूँ और हिन्दुस्तान मेरा है,

जय हिन्द


60.🇮🇳


हमारी पहचान तो सिर्फ ये है कि हम भारतीय हैं – 

जय भारत, वन्दे मातरम


61.🇮🇳


जो अब तक ना खौला, वो खून नहीं पानी है,

जो देश के काम ना आये, वो बेकार जवानी है

जय हिन्द


62.🇮🇳


मैं मुस्लिम हूँ, तू हिन्दू है, हैं दोनों इंसान,

ला मैं तेरी गीता पढ़ लूँ, तू पढ ले कुरान,

अपने तो दिल में है दोस्त, बस एक ही अरमान,

एक थाली में खाना खाये सारा हिन्दुस्तान।


63.🇮🇳


कुछ पन्ने इतिहास के

मेरे मुल्क के सीने में शमशीर हो गएँ,

जो लड़े, जो मरे वो शहीद हो गएँ,

जो डरे, जो झुके वो वजीर हो गएँ.


64.🇮🇳


खुशनसीव हैं वो जो

वतन पे मिट जाते हैं,

मर कर भी वो लोग

अमर हो जाते हैं,

करता हूँ तुम्हे सलाम

ऐ वतन पर मिटने वालो,

तुम्हारी हर सांस में बसना

तिरंगे का नसीव है।

जय हिन्द…!


65.🇮🇳


मैं भारतवर्ष का हरदम अमिट सम्मान करता हूँ

यहाँ की चांदनी मिट्टी का ही गुणगान करता हूँ,

मुझे चिंता नहीं है स्वर्ग जाकर मोक्ष पाने की,

तिरंगा हो कफ़न मेरा, बस यही अरमान रखता हूँ।


66.🇮🇳


सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान हमारा

हम बुलबुलें हैं उसकी वो गुलसिताँ हमारा।

परबत वो सबसे ऊँचा

हमसाया आसमाँ का

वो संतरी हमारा वो पासबाँ हमारा ……

जय हिन्द


67.🇮🇳


दिल हमारे एक हैं एक ही है हमारी जान,

हिंदुस्तान हमारा है हम हैं इसकी शान,

जान लुटा देंगे वतन पे हो जायेंगे कुर्बान,

इसलिए हम कहते हैं मेरा भारत महान।


68.🇮🇳


चिंगारी आजादी की सुलगी मेरे जश्न में हैं,

इन्कलाब की ज्वालाएं लिपटी मेरे बदन में हैं,

मौत जहाँ जन्नत हो ये बात मेरे वतन में हैं,

कुर्बानी का जज्बा जिन्दा मेरे कफन में हैं.


69.🇮🇳


गूंज रहा है दुनिया में भारत का नगाड़ा,

चमक रहा आसमान में देश का सितारा,

आजादी के दिन आओ मिलकर करें दुआ,

की बुलंदी पर लहराता रहे तिरंगा हमारा।


70.🇮🇳


जो देश के लिए शहीद हुए

उनको मेरा सलाम है

अपने खूं से जिस जमीं को सींचा

उन बहादुरों को सलाम है..



71.🇮🇳


लिख रहा हूं मैं अजांम जिसका कल आगाज आयेगा,

मेरे लहू का हर एक कतरा इकंलाब लाऐगा

मैं रहूँ या ना रहूँ पर ये वादा है तुमसे मेरा कि,

मेरे बाद वतन पर मरने वालों का सैलाब आयेगा

जय हिन्द


72.🇮🇳


बस ये बात हवाओं को बताये रखना,

रौशनी होगी चिरागों को जलाये रखना,

लहू देकर जिसकी हिफाज़त की शहीदों ने,

उस तिरंगे को सदा दिल में बसाये रखना।


-💕-:यह भी पढ़ें :--💕

Post a Comment